back-arrow-image Search Health Packages, Tests & More

0%

Language

स्वस्थ, खुश और सक्रिय रहने के लिए सबसे अच्छे 9 खून जांच की सूची

1692 Views

0

स्वस्थ, खुश और सक्रिय रहने के लिए सबसे अच्छे 9 खून जांच की सूची

नियमित खून जांच आपके स्वास्थ्य पर नजर रखने का महत्वपूर्ण तरीका है। नियमित रूप से टेस्ट कराने से आपको बढ़ती उम्र के साथ आपके शरीर में होने वाले बदलावों का पता लगाने की सुविधा मिलेगी और आपको अपने स्वास्थ्य से संबंधित निर्णय लेने में मदद मिलेगी।

खून जांच आपके सम्पूर्ण स्वास्थ्य और तंदुरुस्ती की एक महत्वपूर्ण तस्वीर प्रदान करते हैं। ये जांच किसी बीमारी की शुरुआती पहचान में सहायता करती हैं, जिससे उसकी गंभीर चरणों में प्रगति को रोका जा सकता है। वे आपको इस बात पर नज़र रखने में भी मदद कर सकती हैं कि आपका शरीर आपकी बीमारियों के लिए विभिन्न उपचारों के प्रति कैसे प्रतिक्रिया देता है।

आपको कितनी बार टेस्ट करवाना चाहिए?

आपके डॉक्टर आमतौर पर साल में कम से कम एक बार रूटीन खून जांच करवाने की सलाह दे सकते हैं। अन्य कारण जो आपको खून जांच कराने के लिए प्रेरित कर सकते हैं:

  • अगर आप जीवनशैली में बदलाव चाहते हैं। हाई डेंसिटी लिपोप्रोटीन (HDL) और लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन (LDL) जैसे विभिन्न पैरामीटर्स में असामान्यता को देखकर आप अपने आहार और स्वास्थ्य योजना को उचित ढंग से बदल सकते हैं
  • यदि आप लगातार असामान्य लक्षणों जैसे थकान, असामान्य रूप से वजन बढ़ने या घटने, या नए दर्द का अनुभव कर रहे हैं 
  • यदि आप पारिवारिक इतिहास  या जीवनशैली की आदतों के कारण कुछ बीमारियों के जोखिम में हैं। 
  • यदि आप बीमारियों या जटिलताओं के जोखिम को जांचना या कम करना चाहते हैं, रूटी खून जांच से अधिकांश रोगों के चेतावनी संकेतों की पहचान की जा सकती है।
  • अच्छे स्वास्थ्य के रखरखाव और स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं से मुक्त रहने के लिए यहाँ टॉप के दस खून जांच्स की लिस्ट दी गई है:

1. कम्प्लीट ब्लड काउंट (CBC) (हीमोग्राम)

एक नियमित कम्प्लीट ब्लड काउंट आपके खून में हर मुख्य कोशिका के अलग-अलग संघटक के स्तर को मापता है, जिसमें निम्न शामिल हैं:

  • लाल रक्त कोशिकाएं (रेड ब्लड सेल्स)
  • सफेद रक्त कोशिकाएं (व्हाइट ब्लड सेल्स)
  • प्लेटलेट्स
  • हीमोग्लोबिन (आरबीसी में प्रोटीन)
  • हेमाटोक्रिट
  • मीन कोरपुसकुलर वॉल्यूम

साथ में कुछ और ब्लड पैरामीटर।

इन लैब टेस्ट के असामान्य स्तर निम्न का संकेत दे सकते हैं:

  • शरीर में पर्याप्त रक्त कोशिकाओं (ब्लड सेल्स) की कमी
  • पोषण की कमी, जैसे विटामिन बी6 या बी12
  • टिश्यू की सूजन
  • आयरन की कमी
  • किसी संक्रमण के लक्षण
  • हृदय की खराब स्थिति।

2. इलेक्ट्रोलाइट्स पैनल

एक बुनियादी इलेक्ट्रोलाइट्स टेस्ट में ब्लड में मौजूद कुछ मिनरल कंपाउंड का मेजरमेंट शामिल होता है, जैसे:

  • सोडियम
  • पोटैशियम
  • मैगनीशियम
  • क्लोराइड

इन पैरामीटर्स में असामान्य डिहाइड्रेशन, कुपोषण या हार्मोन असंतुलन आदि की संभावना दिखाती है

3. लिवर पैनल

लिवर पैनल या लिवर फ़ंक्शन टेस्ट से विभिन्न पैरामीटर्स जैसे कि एंजाइम, प्रोटीन और लिवर द्वारा उत्पादित अन्य पदार्थों की जांच होती है। लिवर फ़ंक्शन टेस्ट द्वारा प्रदान की जाने वाली कुछ महत्वपूर्ण वैल्यू में शामिल हैं:

  • एल्बुमिन
  • एल्कालाइन फ़ॉस्फ़ेटेस
  • एलनाइन एमिनोट्रांस्फरेज़
  • एस्पर्टेट एमिनोट्रांसफ़रेज़
  • बिलीरुबिन

इन संघटक के बढ़े हुए स्तर लिवर की बीमारियों जैसे फैटी लिवर, हेपेटाइटिस, सिरोसिस आदि का संकेत दे सकते हैं, जबकि एल्कालाइन फ़ॉस्फ़ेटेस का घटा हुआ स्तर बोन मेटाबॉलिक डिसऑर्डर्स (हड्डी के चयापचय संबंधी विकार) का डायग्नोस्टिक मार्कर हो सकता है।

4. लिपिड पैनल

यह टेस्ट ब्लड में विभिन्न प्रकार के कोलेस्ट्रॉल और संबंधित फैट्स के लेवल का पता लगाता है। इसमें आम तौर पर शामिल हैं:

  • एचडीएल या "अच्छा" कोलेस्ट्रॉल
  • एचडीएल या "खराब" कोलेस्ट्रॉल
  • ट्राइग्लिसराइड्स
  • टोटल कोलेस्ट्रॉल।

यह पैनल विशेष रूप से वृद्ध व्यक्तियों में हृदय रोगों के जोखिम का आकलन करने के लिए किया जाता है। इस टेस्ट के परिणाम आपकी जीवनशैली के तरीकों को भी प्रभावित कर सकते हैं और सुधार सकते हैं।

5. थायरॉयड पैनल

थायरॉयड पैनल या थायरॉयड फ़ंक्शन टेस्ट, यह मूल्यांकन करता है कि आपके थायरॉयड का कितनी अच्छी तरह से उत्पादन हो रहा है और कुछ हार्मोन पर यह किस तरह से प्रतिक्रिया कर रहा है। इसमें शामिल हैं:

  • ट्राईआयोडोथायरोनिन (टी3): टी4 के साथ मिलकर यह हार्मोन आपकी हृदय गति और शरीर के तापमान को नियंत्रित करता है।
  • थायरॉक्सिन (टी4): टी3 के साथ यह हार्मोन आपके मेटाबॉलिज़्म को नियंत्रित करता है।
  • थायरॉयड-स्टीमुलेटिंग हार्मोन (टीएसएच): यह हार्मोन आपके थायरॉयड द्वारा रिलीज़ किए गए हार्मोन के स्तर को नियंत्रित करता है।

इन हार्मोन के असामान्य स्तर के परिणामस्वरूप कई समस्याएं हो सकती हैं, जैसे कम प्रोटीन स्तर, थायरॉयड के बढ़ने से जुड़ा डिसऑर्डर और टेस्टोस्टेरोन या एस्ट्रोजन सहित सेक्स हार्मोन का असामान्य स्तर।

6. मधुमेह (डायबिटीज) पैनल

मधुमेह (डायबिटीज) के डायग्नोस्टिक टेस्ट में फास्टिंग प्लाज़्मा ग्लूकोज, पोस्ट-मील ब्लड ग्लूकोज़ , और ग्लाइकेटेड हीमोग्लोबिन टेस्ट शामिल हैं।

आपका चिकित्सक आपके टेस्ट परिणाम का मूल्यांकन करेगा और यह निर्धारित करेगा कि आपकी ब्लड शुगर कितनी नियंत्रित है। HbA1c टेस्ट शरीर में ग्लूकोज की मात्रा का मूल्यांकन करता है और मुख्य रूप से मधुमेह (डायबिटिक) रोगी के शुगर नियंत्रण पर नज़र रखने के लिए किया जाता है। वे किसी व्यक्ति में संभावित मधुमेह (डायबिटीज) या पूर्व-मधुमेह (प्री-डायबिटिक) स्थिति का विश्लेषण करने में भी सहायता कर सकते हैं।

7. आवश्यक पोषक तत्वों के लिए टेस्ट

शरीर के कुछ पोषक तत्वों जैसे आयरन , विटामिन डी , विटामिन बी12 , और मैग्नीशियम के स्तर का आकलन करने वाले खून के टेस्ट जरूरी हैं, क्योंकि ये बेहतर शारीरिक कार्यों के लिए महत्वपूर्ण हैं।

अधिकांश लोगों में कई कारणों की वजह से इन पोषक तत्वों की कमी होती है, इसलिए, इन स्तरों का मूल्यांकन करना अनिवार्य है और पर्याप्त नहीं होने पर उनकी भरपाई करना बहुत जरूरी है। इन पोषक तत्वों की पूर्ति करने से आयरन की कमी से होने वाले कई कई डिसऑर्डर जैसे एनीमिया, गिरने का खतरा, फ्रैक्चर, बहुत ज़्यादा या लंबे समय से जारी दर्द आदि को रोका जा सकता है।

8. इन्फ्लेमेटरी मार्कर

इन्फ्लेमेटरी मार्कर के लिए टेस्ट में सी-रिएक्टिव प्रोटीन और होमोसिस्टीन शामिल हैं। सी-रिएक्टिव प्रोटीन का बढ़ा हुआ स्तर शरीर में सूजन का संकेत है और हृदय संबंधी समस्याओं, धमनी में सूजन, इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज़, रूमेटाइड आर्थराइटिस या डिप्रेशन के बढ़ते जोखिम से संबंधित है।

होमोसिस्टीन, एक सामान्य अमीनो एसिड, के लेवल में वृद्धि स्ट्रोक और हृदय रोग, विटामिन बी6, बी12 और फोलेट की स्थिति और किडनी की बीमारियों जैसी स्थितियों का संकेत देता है।

9. कोएगुलेशन पैनल

कोएगुलेशन टेस्ट्स में प्रोथ्रोम्बिन टाइम टेस्ट और अंतर्राष्ट्रीय सामान्यीकृत अनुपात शामिल हैं, ये दोनों आपके शरीर की रक्त को थक्का बनाने की क्षमता और रक्त के थक्के (ब्लड क्लॉटिंग) बनने में लगने वाले समय को मापते हैं। ब्लड क्लॉटिंग शरीर के लिए एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है और ये खून के टेस्ट आपको चोट, सर्जिकल प्रक्रिया आदि के मामले में ब्लीडिंग से बचा सकते हैं।

 इसके अलावा, इन टेस्ट के परिणाम अनुचित क्लॉटिंग से जुड़ी किसी भी बुनियादी स्थिति को डायग्नोज़ कर सकते हैं, जैसे:

  • एक्यूट मायलोइड ल्यूकेमिया
  • हीमोफीलिया
  • थ्रोम्बोसिस
  • लिवर की स्थिति
  • विटामिनके की कमी।

निष्कर्ष

डायग्नोस्टिक टेस्ट को अक्सर "रोकथाम इलाज से बेहतर है" जैसे नारे के साथ वर्णित किया जाता है। कुछ रोगों का समय पर डायग्नोसिस उनके अधिक गंभीर स्थिति में पहुंचने से बचाव प्रदान कर सकता है। हालांकि, ये लैब टेस्ट अक्सर निश्चित डायग्नोसिस के लिए हमेशा उपयुक्त नहीं होते हैं। किसी भी असामान्य स्थिति का पता लगाने के लिए शुरू में कई लैब टेस्ट किए जाते हैं, जिससे निश्चित डायग्नोसिस हासिल करने के लिए स्वास्थ्य पेशेवरों की मदद से अन्य जांचों के साथ जोड़ा जाता है।

अधिकांश लैब टेस्ट में 8-12 घंटों के लिए फास्टिंग चाहिए होती है, जिससे यह सुनिश्चित किया जाता है कि टेस्ट के परिणाम विटामिन, प्रोटीन और अन्य पोषक तत्वों सहित प्रभावित करने वाली किसी भी चीज से मुक्त हैं, ताकि आपके टेस्ट के परिणाम जितना संभव हो उतना सटीक हों।

इसलिए, वर्ष में कम से कम एक बार रुटीन लैब टेस्ट करवाना आवश्यक है। अपने सर्वोत्तम स्वास्थ्य के लिए आपको किसी दूसरे परीक्षण की आवश्यकता है या नहीं, यह जानने के लिए हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लें।

Talk to our health advisor

Book Now

LEAVE A REPLY

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Popular Tests

Choose from our frequently booked blood tests

TruHealth Packages

View More

Choose from our wide range of TruHealth Package and Health Checkups

View More

Do you have any queries?