back-arrow-image Search Health Packages, Tests & More

0%

Language

प्रेगनेंसी में क्वाड्रुपल मार्कर टेस्ट कितने सहायक हैं?

1963 Views

0

अगर आप दूसरी तिमाही में हैं, तो क्वाड्रुपल मार्कर टेस्ट आपके डॉक्टर द्वारा अनुशंसित कई टेस्टों में से एक होगा। भले ही इस परीक्षण की आवश्यकता नहीं है, यह आपके रक्त में चार अलग-अलग पदार्थों के स्तर का विश्लेषण करके आपके बच्चे के स्वास्थ्य के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी इकट्ठा करने में सहायता करता है।

क्वाड्रुपल मार्कर टेस्ट के रिज़ल्ट कितने सटीक हैं? इसमें क्या रिस्क शामिल हैं? प्रक्रिया क्या है और टेस्ट कितना उपयोगी है? इन सवालों के जवाब जानने के लिए आगे पढ़ें!

क्वाड्रपल मार्कर टेस्ट क्या है?

क्वाड स्क्रीन या क्वाड्रपल मार्कर एक ब्लड टेस्ट है जो प्रेगनेंसी के दूसरे तिमाही (15-20 सप्ताह) के दौरान अजन्मे बच्चे में किसी भी जन्म दोष या क्रोमोसोमल असामान्यताओं की पहचान करने के लिए किया जाता है।

क्वाड मार्कर टेस्ट माँ के शरीर में इन चार पदार्थों के लेवल को मापता है:

1. असंयुग्मित एस्ट्रिऑल (यूई3)

2. अल्फा-भ्रूणप्रोटीन (एएफपी)

3. इनहिबिन-ए

4. ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी)

एएफपी विकासशील भ्रूण द्वारा निर्मित एक हार्मोन है जबकि एचसीजी, यूई3 और इनहिबिन-ए प्लेसेंटा द्वारा उत्पादित हार्मोन हैं।

क्वाड्रपल मार्कर टेस्ट आमतौर पर प्रेगनेंसी के 15 और 20 सप्ताह के बीच किया जाता है, और यह भ्रूण में कुछ स्थितियों के रिस्क का आकलन करने में मदद कर सकता है, जिसमें डाउन सिंड्रोम, ट्राइसोमी 18, या एडवर्ड सिंड्रोम और न्यूरल ट्यूब दोष शामिल हैं। इसके अलावा, इस टेस्ट का उपयोग एकाधिक भ्रूणों की उपस्थिति का पता लगाने के लिए किया जा सकता है। इसका उपयोग मां और भ्रूण दोनों के स्वास्थ्य की निगरानी के लिए भी किया जा सकता है।

क्वाड्रपल मार्कर टेस्ट को सुरक्षित माना जाता है, लेकिन इसमें फॉल्स-पॉज़िटिव रिज़ल्ट प्राप्त होने का रिस्क होता है, इसलिए टेस्ट कराने या न कराने का निर्णय लेने से पहले अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता के साथ संभावित रिस्कों और लाभों पर चर्चा करना महत्वपूर्ण है।

क्वाड्रुपल मार्कर टेस्ट क्यों किया जाता है?

क्वाड्रपल मार्कर टेस्ट चार विशिष्ट मार्करों की तलाश करता है जो भ्रूण में जन्म दोषों का संकेत देने में मदद करता है| टेस्ट भ्रूण में चार प्रमुख स्थितियों के विकसित होने की संभावना का आकलन किया जाता है। इसमे शामिल है:

  • डाउन सिंड्रोम (ट्राइसॉमी 21) एक क्रोमोसोमल विकार है जो प्रभावित लोगों में कई प्रकार की विकासात्मक देरी, आजीवन बौद्धिक विकलांगता और स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है।
  • एडवर्ड सिंड्रोम (ट्राइसॉमी 18) एक क्रोमोसोमल विकार है जो शरीर में स्लो विकास और असामान्यताएं पैदा करता है। इस स्थिति का कोई इलाज नहीं है और यह आमतौर पर जन्म से पहले या जीवन के पहले वर्ष के भीतर घातक होता है।
  • स्पाइना बिफिडा तब होता है जब भ्रूण की रीढ़ की हड्डी गर्भ में ठीक से विकसित हो पाती है। कुछ मामलों में, यह निचले अंगों के पैरालिसिस का कारण बन सकता है और कुछ मामलों में, कुछ नया सीखने में मुश्किल हो सकती है।
  • एब्डोमिनल वॉल के दोष भ्रूण की एब्डोमिनल वॉल में बिरथ डिफेक्ट के कारण होता है जिनमें नाभि, आंतें या पेट के अन्य अंग शामिल हो सकते हैं।

क्वाड्रपल मार्कर टेस्ट की प्रक्रिया

टेस्ट से पहले, आपको  जेनेटिक काउंसलर से मिलने के लिए कहा जाएगा। टेस्ट के लिए किसी पूर्व तैयारी की ज़रूरत नहीं है, और आप हमेशा की तरह खा-पी सकते हैं। एक बार टेस्ट शुरू होने पर आपका ब्लड लिया जाएगा। डॉक्टर आपका ब्लड सैंपल टेस्ट के लिए भेजेगा। आप इसके तुरंत बाद अपने सामान्य जीवन में लौट सकते हैं।

क्वाड्रपल मार्कर टेस्ट में शामिल रिस्क और जटिलताएँ

क्वाड स्क्रीन एक नियमित प्रसव पूर्व टेस्ट है जिससे गर्भपात या प्रेगनेंसी की अन्य जटिलताओं का कोई खतरा नहीं होता है। हालाँकि, आपके जीवन में इस नाजुक अवधि के दौरान सभी टेस्टों की तरह, यह कुछ चिंता का कारण बन सकता है क्योंकि आप परिणामो के बारे में सोचते हैं यह कि वे आपके और अपने अजन्मे बच्चे पर कैसा असर दिखाएंगे |

सामान्य क्वाड्रपल मार्कर टेस्ट रिज़ल्ट

अगर आपके ब्लड में कुछ पदार्थों का लेवल सामान्य पाया जाता है, तो इसका मतलब है कि आप और आपका शिशु दोनों स्वस्थ और सामान्य हैं।

असामान्य क्वाड्रपल मार्कर टेस्ट रिज़ल्ट

कुछ कारकों के कारण असामान्य परिणाम हो सकते हैं:

  • प्रेगनेंसी के सही समय या सप्ताह की गणना न करना
  • इन विट्रो निषेचन में
  • अनेक गर्भधारण
  • मधुमेह
  • प्रेगनेंसी के दौरान धूम्रपान करना

अगर आपके क्वाड्रपल मार्कर टेस्ट के परिणाम असामान्य हैं तो अक्सर अल्ट्रासाउंड  करवाने को कहा जाता है। वे स्वास्थ्य सेवा प्रदाता को आपकी गर्भकालीन आयु को वेरीफाई करने, आपके गर्भ में पल रहे शिशुओं की संख्या की पुष्टि करने और भ्रूण की दृष्टि से जांच करने की अनुमति है।

क्वाड स्क्रीन टेस्ट काफी सटीक है। आंकड़ों के अनुसार, यह 35 वर्ष से अधिक उम्र की गर्भवती महिलाओं में डाउन सिंड्रोम के लगभग 90% मामलों की सही पहचान कर सकता है और 35 वर्ष से कम उम्र की महिलाओं में डाउन सिंड्रोम के लगभग 75% मामलों का पता लगा सकता है।

यदि आपको अपने क्वाड स्क्रीन परीक्षण से सकारात्मक परिणाम मिलता है, तो किसी भी संभावित समस्या का सटीक निदान प्राप्त करने के लिए आगे परीक्षण कराने की सलाह दी जाती है। इन टेस्टों में शामिल हैं:

  • लक्षित अल्ट्रासाउंड
  • एमनियोसेंटेसिस
  • भ्रूण में जेनेटिक गड़बड़ियों की जांच करना
  • गैर-आक्रामक प्रसवपूर्व टेस्ट

क्वाड्रपल मार्कर टेस्ट कितना उपयोगी है?

प्रेगनेंसी के दौरान, आपको अपने अजन्मे बच्चे के उचित विकास को सुनिश्चित करने के लिए कई जांचों और टेस्टों से गुजरना होगा। क्वाड्रपल मार्कर टेस्ट भी एक ऐसा ही टेस्ट है।

क्वाड्रपल मार्कर टेस्ट के फायदे बताने से पहले, इसके रिस्क्स पर नजर डालते हैं |

इसके अलावा, जैसा कि ऊपर चर्चा की गई है, डाउन सिंड्रोम और अन्य जन्म दोषों का पता लगाने के लिए क्वाड्रपल मार्कर टेस्ट को रिज़ल्टों के संदर्भ में काफी सटीक माना जाता है। इसलिए, अपने अजन्मे बच्चे के अच्छे स्वास्थ्य के बारे में सुनिश्चित होने के लिए क्वाड मार्कर टेस्ट से गुजरना आपके लिए काफी सहायक होता है।

निष्कर्ष:

हाँ, अगर आप अपने अजन्मे बच्चे के स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हैं तो क्वाड्रपल मार्कर टेस्ट मददगार साबित हो सकता है। अगर आप क्वाड्रपल मार्कर टेस्ट करवाने के बारे में सोच रहे हैं तो डॉक्टर से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

अब आप मेट्रोपोलिस इंडिया के साथ क्वाड्रपल मार्कर टेस्ट ऑनलाइन बुक कर सकते हैं और टेस्ट केंद्र पर प्रतीक्षा लाइन में कटौती कर सकते हैं।

Talk to our health advisor

Book Now

LEAVE A REPLY

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Popular Tests

Choose from our frequently booked blood tests

TruHealth Packages

View More

Choose from our wide range of TruHealth Package and Health Checkups

View More

Do you have any queries?