back-arrow-image Search Health Packages, Tests & More

0%

Language

टाइफाइडॉट टेस्ट: प्रक्रिया, तैयारी और प्राइस रेंज

317 Views

0

ओवरव्यू: टाइफाइडॉट टेस्ट

टाइफाइडॉट टेस्ट एक तीव्र सीरोलॉजिकल टेस्ट है जो टाइफाइड फीवर का निदान करने में मेडिकल प्रोफेशनल्स की मदद करता है। साल्मोनेला टाइफी नामक बैक्टीरिया इस फीवर को पैदा करता है। जब यह बैक्टीरिया आपके शरीर में जाता है, तो आपका इम्म्यून सिस्टम बैक्टीरिया से लड़ने के लिए दो प्रकार के एंटीबॉडी, आईजीजी और आईजीएम रिलीज करता है। टाइफाइडॉट टेस्ट एक रेडी-टू-यूज़ डॉट एलिसा किट है जिसे साल्मोनेला टाइफी बैक्टीरिया के आउटर मेम्ब्रेन प्रोटीन (ओएमपी) के खिलाफ अलग से इन एंटीबॉडी के गुणात्मक पता लगाने और विभेदन के लिए डिज़ाइन किया गया है।

टाइफाइड भारत में सबसे अधिक प्रचलित बीमारियों में से एक है। यह फीवर दूषित भोजन, पेय और पीने के पानी से फैलता है। यह एक जीवन-घातक बीमारी है जिसके संभावित वाहकों का उचित ट्रीटमेंट सुनिश्चित करने और टाइफाइड के प्रभाव को रोकने के लिए त्वरित निदान की जरूरत होती है।

बैक्टीरिया की उपस्थिति की पुष्टि करने के लिए, कई रोगियों को एलिसा (एंजाइम-लिंक्ड इम्युनोसॉरबेंट टेस्ट) और अन्य ब्लड कल्चर्स से गुजरना पड़ता है। एक अन्य नैदानिक उपाय बोन मेरो कल्चर है। लेकिन, यह बहुत इनवेसिव है और इसे लैब सेटिंग में नहीं किया जा सकता है। इस संबंध में, टाइफाइडॉट टेस्ट एक अत्यंत मूल्यवान निदान टूल साबित हुआ है।

टाइफाइडॉट टेस्ट किसलिए किया जाता है?

निम्नलिखित लक्षण दिखने पर डॉक्टर नियमित रूप से टाइफाइडॉट टेस्ट करवाते हैं:

• फीवर के साथ शरीर में दर्द, विशेषकर सिर और पैरों में दर्द

• कमजोरी और नींद का बढ़ना

• शरीर के तापमान में धीरे-धीरे वृद्धि होना

• ब्लोटिंग महसूस होना

• पेट दर्द

• दस्त

• भूख में कमी

• खाँसी

• शरीर का तापमान बढ़ने की तुलना में पल्स धीरे होना

• गैस्ट्रोएंटेराइटिस (आंतों की सूजन)

• फीवर के एक सप्ताह के बाद पीठ पर या पेट में छोटे लाल फोड़े या दाने होना

• अस्वस्थता (असुविधा की भावना, कमजोरी, किसी भी गतिविधि में रुचि की कमी)

कुछ मामलों में, टाइफाइड फीवर के साथ ये भी हो सकते हैं:

• एब्नार्मल हार्ट रेट

• बहुत ज्यादा पसीना आना

• इंटेस्टिनल ब्लीडिंग

• लिवर और स्प्लीन का बढ़ना

• फैला हुआ पेट (असामान्य रूप से सूजा हुआ पेट)

आपको डॉक्टर से कब कॉन्टैक्ट करना चाहिए?

अगर निम्न में से कुछ भी हो तो डॉक्टर से कॉन्टैक्ट करें:

• किसी ऐसे क्षेत्र का दौरा किया है जहां लोग टाइफाइड फीवर से पीड़ित हैं, और आपमें लक्षण दिख रहे हैं

• किसी ऐसे व्यक्ति के संपर्क में आए हैं जिसे टाइफाइड फीवर है

• मूत्र उत्पादन में कमी, गंभीर पेट दर्द और कोई अन्य नए लक्षण जैसे लक्षण हों

• टाइफाइड फीवर के लक्षणों की फिर से हुए

अगर टाइफाइड फीवर का पता नहीं चलता तो क्या होगा?

टाइफाइड फीवर से पूरी तरह ठीक होना काफी हद तक टाइफाइड टेस्ट द्वारा समय पर पता लगाने और सही ट्रीटमेंट पर निर्भर करता है। इसमें देरी से हेल्थ कॉम्प्लीकेशन्स हो सकती हैं।

• किडनी फेलियर: टाइफाइड फीवर गुर्दे की विफलता और हेपेटाइटिस का कारण बन सकता है, हालांकि ये स्थितियां दुर्लभ हैं।

• इंटरनल ब्लीडिंग: अगर टाइफाइड फीवर का इलाज उचित एंटीबायोटिक दवाओं से नहीं किया जाता है, तो यह इंटरनल ब्लीडिंग का कारण बन सकता है। अगर स्थिति बिगड़ती है, तो रोगी को ब्लड ट्रांसफ्यूजन की जरूरत हो सकती है।

• पेरिटोनिटिस: यह एक बहुत ही गंभीर कॉम्प्लीकेशन है जिसमें बैक्टीरिया आपके पेरिटोनियम (आपके पेट की परत) को इन्फेक्ट करता है।

आप टाइफाइडॉट आईजीएम टेस्ट की तैयारी कैसे करते हैं?

इस टेस्ट से पहले कोई विशेष सावधानियां नहीं होती। लेकिन किसी भी दवा या सप्लीमेंट के बारे में डॉक्टर को सूचित जरूर करें। आपको टेस्ट से पहले कुछ दिनों के लिए इनका सेवन बंद करने के लिए कहा जा सकता है। इसके अलावा, अगर आपकी कोई अंतर्निहित मेडिकल स्थिति है, तो डॉक्टर और लैब तकनीशियन को सूचित करें। इसके अलावा, आपको टाइफाइडॉट टेस्ट से पहले उपवास करने की जरूरत नहीं है।

टाइफाइडॉट टेस्ट की प्रक्रिया क्या है?

टाइफाइडॉट आईजीएम टेस्ट निम्नलिखित स्टेप्स में किया जाता है:

• एक इलास्टिक बैंड या टूर्निकेट आपकी ऊपरी बांह पर बांधा जाता है।

• आपको कसकर मुट्ठी बनाने के लिए कहा जाता है। इससे नसें ब्लड से भर जाती हैं, जिससे ब्लड लेना आसान हो जाता है।

• नस का पता लगने के बाद, उस स्थान को एक एंटीसेप्टिक लिक्विड से साफ किया जाता है। यह किसी भी बैक्टीरिया को आपके शरीर में प्रवेश करने से रोकता है।

• सुई को नस में डाला जाता है, और ब्लड सैंपल वैक्यूटेनर ट्यूब में लिया जाता है।

• लैब तकनीशियन सुई निकालता है और इलास्टिक बैंड छोड़ देता है। फिर आप अपनी मुट्ठी खोल सकते हैं।

• ब्लीडिंग को रोकने के लिए गॉज पैड या रुई रखी जाती है।

• इसके बाद, ब्लड सैंपल को टाइफाइडॉट टेस्ट किट पर रखा जाता है और टेस्ट किट के साथ दिए गए केमिकल या रिआजेंट्स के साथ मिलाया जाता है।

• टेस्ट किट 1-3 घंटे के अंदर रिजल्ट देती है।

टाइफाइडॉट टेस्ट पूरा होने के बाद ध्यान रखने वाली बातें

टाइफाइडॉट टेस्ट पूरा होने के बाद, सुई को धीरे से बाहर निकाला जाता है। ब्लीडिंग को रोकने के लिए सुई लगाने वाली जगह को रूई से ढक दिया जाता है और पट्टी लगा दी जाती है। शुरुआत में आपको थोड़ा दर्द हो सकता है, लेकिन कुछ दिनों में यह कम हो जाता है।

टाइफाइडॉट आईजीएम टेस्ट के बाद कोई प्रतिबंध नहीं हैं। आप अपनी रूटीन गतिविधियाँ शुरू कर सकते हैं, खा सकते हैं, पी सकते हैं और घूम सकते हैं। हालांकि, अपने टेस्ट के रिजल्ट आने के बाद, अगर कोई चिंता है तो समझने के लिए डॉक्टर के साथ अपॉइंटमेंट बुक करें।

टाइफाइडॉट टेस्ट के लिए सैंपल लेते समय क्या सावधानियां बरतनी चाहिए?

टेस्ट किट और ब्लड के सैंपल को संभालते समय कुछ सावधानियों को ध्यान में रखना चाहिए:

• उपयोग किए जाने तक टेस्ट डिवाइस की सील बंद रखनी चाहिए। इसे 4-30 डिग्री सेल्सियस पर स्टोर किया जाना चाहिए।

• इसे गर्मी, नमी और धूप से सुरक्षित रखना चाहिए।

• सैंपल स्टोरेज के दौरान सभी स्टैण्डर्ड उपायों का पालन किया जाना चाहिए।

• सभी सैंपल को अत्यधिक सावधानी से संभाला जाना चाहिए क्योंकि वे संभावित रूप से संक्रामक हैं।

• अगर सैंपल का तुरंत टेस्ट नहीं किया जा सकता है, तो इसे 2-8 डिग्री सेल्सियस पर रेफ्रिजरेट करना चाहिए।

• अगर स्टोरेज की अवधि तीन दिन से ज्यादा है, तो सैंपल को -20°C पर स्टोर करना चाहिए।

टाइफाइडॉट टेस्ट की कॉस्ट कितनी है?

टाइफाइडॉट टेस्ट की कॉस्ट अलग-अलग शहरों में अलग हो सकती है। आइए कुछ प्रमुख शहरों में टाइफाइडॉट टेस्ट की कॉस्ट देखें:

• मुंबई - ₹581

• दिल्ली - ₹447

• पुणे - ₹662

• हैदराबाद - ₹588

• कोलकाता - ₹602

• लखनऊ - ₹490

• गुरूग्राम- ₹422

• श्रीनगर - ₹385

• सूरत - ₹535

• चेन्नई - ₹419

टाइफाइडॉट आईजीएम टेस्ट की कॉस्ट लैब पार्टनर, स्थान और समय के आधार पर अलग हो सकती है।

आपको टाइफाइडॉट टेस्ट के रिजल्ट की उम्मीद कब करनी चाहिए?

टाइफाइडॉट आईजीएम टेस्ट का टर्न-अराउंड टाइम प्रमुख विशेषताओं में से एक है। आप कुछ ही घंटों में रिजल्ट की उम्मीद कर सकते हैं। फिर, रिजल्ट को किट के साथ प्रदान की गई रेंज या रीडिंग से कम्पेयर कर सकते हैं।

आप टाइफाइडॉट आईजीएम टेस्ट के रिजल्ट को कैसे समझते हैं?

टाइफाइडॉट आईजीएम टेस्ट एक एंजाइम इम्यूनोएसे है जिसका उपयोग 50 किलोडाल्टन आउटर प्रोटीन मेम्ब्रेन के साथ साल्मोनेला टाइफी बैक्टीरिया के खिलाफ आपके शरीर की इम्म्यून सिस्टम द्वारा उत्पादित आईजीएम और आईजीजी एंटीबॉडी का पता लगाने के लिए किया जाता है। टेस्ट ओएमपी एंटीजन से युक्त नाइट्रोसेल्यूलोज स्ट्रिप्स की मदद से आईजीजी और आईजीएम एंटीबॉडी को अलग करता है।

टेस्ट किट पर नेगेटिव रिजल्ट बताता है कि इन्फेक्शन की नहीं है। हालांकि, टाइफाइडॉट आईजीएम पॉजिटिव हाल ही में हुए इन्फेक्शन की ओर इशारा करता है। इसके अलावा, अगर आपके टेस्ट के रिजल्ट आईजीजी पॉजिटिव दिखाते हैं, तो यह पिछले या पुराने इन्फेक्शन का संकेत देता है। टेस्ट के रिजल्ट की सटीक समझ के लिए, आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए। रिजल्ट का विश्लेषण करने के बाद, डॉक्टर ट्रीटमेंट बता सकते हैं।

टाइफाइडॉट टेस्ट के क्या फायदे हैं?

टाइफाइडॉट आईजीएम टेस्ट के कईं फायदे हैं, जो इसे क्लीनिकल ​​उपयोग के लिए सुविधाजनक बनाता है:

• टाइफाइड फीवर का अर्ली और विशिष्ट निदान करता है

• संचालन में आसान

• तीव्र और विश्वसनीय

• केवल ब्लड के सैंपल की जरूरत है; किसी अन्य सैंपल की जरूरत नहीं है

• टेस्ट के लिए किसी विशेष उपकरण की जरूरत नहीं है

• ब्लड नमूनों की जरुरी मात्रा न्यूनतम है

• टेस्ट के रिजल्ट की व्याख्या करना आसान है

टाइफाइडॉट टेस्ट की कॉस्ट सस्ती है

क्या टाइफाइडॉट टेस्ट निश्चित और विश्वसनीय है?

ज्यादातर डॉक्टर और हेल्थकेयर सलाहकार टाइफाइड के निदान में टाइफाइडॉट टेस्ट का उपयोग करते हैं। वे इसे इस स्वास्थ्य स्थिति के समय पर निदान के लिए उपयोग में आसान, क्विक और आशाजनक ऑप्शन मानते हैं। इसके अलावा, यह सभी ऐज ग्रुप के लिए सेफ है।

क्या टाइफाइडॉट टेस्ट से जुड़े कोई जोखिम हैं?

ब्लड के सैंपल से बहुत कम जोखिम जुड़ा होता है। कुछ लोगों में नसों और धमनियों का पता लगाना चुनौती हो सकती है, जिसके कारण ब्लड के सैंपल लेना मुश्किल हो सकता है। इसके अलावा, यह हो सकता है:

• हेमेटोमा (त्वचा के नीचे ब्लड का इकठ्ठा होना)

• नस में सूजन होना जहां से ब्लड सैंपल लिया गया था

• अत्यधिक ब्लीडिंग

• बेहोशी या चक्कर आना

• सुई लगने वाली जगह पर इन्फेक्शन

अगर आप कोई ब्लीडिंग डिसऑर्डर है, या ब्लड पतला करने वाली कोई दवा ले रहे हैं, या अतीत में ब्लड टेस्ट के दौरान बेहोश हो गए हैं, तो टेस्ट से पहले लैब तकनीशियन को बता दें। यह ध्यान रखना जरूरी है कि उपरोक्त समस्याएं बहुत कम होती हैं और आम तौर पर अपने आप ठीक हो जाती हैं। कुल मिलाकर, टाइफाइडॉट टेस्ट में कोई बड़ा रिस्क नहीं है।

ब्लड टेस्ट के बाद चक्कर आने पर, क्या करना चाहिए?

अगर आपको चक्कर या उलटी महसूस होती है, तो खूब सारे तरल पदार्थ पिएं और आराम करें। अगले 2-3 दिनों तक इंटेंस वर्कआउट न करें और भारी वस्तुएं न उठाएं। सुनिश्चित करें कि परिवार का कोई सदस्य या मित्र आपकी देखभाल के लिए मौजूद हो। अगर चक्कर आते रहें तो बिना किसी देरी करे डॉक्टर से संपर्क करें।

क्या टाइफाइडॉटआईजीएम टेस्ट की कोई कमियां हैं?

टाइफाइडॉट आईजीएम टेस्ट की सबसे महत्वपूर्ण कमी यह है कि यह मात्रात्मक नहीं है, जिसका अर्थ है कि रिजल्ट केवल सकारात्मक या नकारात्मक दिखते हैं।

टाइफाइड फीवर से बचे रहने के लिए क्विक टिप्स

• अपने हाथों को बार-बार साबुन और पानी से धोना टाइफाइड इन्फेक्शन को दूर रखने का सबसे अच्छा तरीका है।

• पीने के पानी के मामले में सतर्क रहें। अगर संभव हो तो इसे उबाल कर लें।

• कच्चे दूध से परहेज करें। उबला हुआ दूध ही पियें।

• गर्म और ताज़ा भोजन खाएं।

• रूम टेम्परेचर पर स्टोर्ड और परोसे जाने वाले खाद्य पदार्थों से बचें।

• स्ट्रीट वेंडर का खाना न खाएं।

• पका हुआ खाना खाएं। अपने आहार में कच्चे फलों और सब्जियों की संख्या कम रखें।

• वैक्सीन लगवाएं।

निष्कर्ष

टाइफाइड को एक गंभीर स्वास्थ्य चिंता के रूप में जाना जाता है। इसके अलावा, बैक्टीरिया के नए स्ट्रेन साथ, यह स्थिति काफी हानिकारक हो सकती है। इसलिए, तुरंत निदान जरूरी है। टाइफाइडॉट आईजीएम बीमारी का सही से पता लगाने और तुरंत इलाज करने के लिए एक उन्नत निदान जरूरी है।

Talk to our health advisor

Book Now

LEAVE A REPLY

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Popular Tests

Choose from our frequently booked blood tests

TruHealth Packages

View More

Choose from our wide range of TruHealth Package and Health Checkups

View More

Do you have any queries?