back-arrow-image Search Health Packages, Tests & More

0%

Language

बुजुर्गों में 6 आम स्वास्थ्य समस्याएं और उन्हें ठीक करने के तरीके

553 Views

0

यह बिल्कुल सही बात है कि उम्र बढ़ने के कारण आपके शरीर के अंग भी बूढ़े हो जाते हैं। इसका परिणाम वृद्धावस्था में कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं में होता है। नेशनल काउंसिल ऑन एजिंग के अनुसार, 92% के करीब बुजुर्गों को कम से कम एक बीमारी है जो लंबे समय से जारी है, और 77% को कम से कम दो हैं।

वरिष्ठों को जिन सामान्य स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है, उनके बारे में जागरूक रहने से रोकथाम के लिए योजना बनाने में मदद मिलती है और किसी भी आसन्न स्वास्थ्य आपात स्थिति के लिए तैयार रहने में मदद मिलती है। क्या आप अपने बुजुर्गों की सर्वोत्तम संभव तरीकों से देखभाल करना चाहते हैं, लेकिन निश्चित नहीं हैं कि कहां से शुरू करें? एक सिंगल हेल्थ चेकअप के साथ उनके 33 हेल्थ पैरामीटर की जांच करें। जांच अभी बुक करें

यहां बुजुर्गों में पाए जाने वाले 6 सबसे आम स्वास्थ्य स्थितियां और उन्हें मैनेज करने के तरीके दिए गए हैं:

1. ह्रदय रोग:

हृदय शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक है जो शरीर के विभिन्न भागों में रक्त का संचार करता है। बुढ़ापा हृदय और रक्त वाहिकाओं में परिवर्तन का कारण बन सकता है, जिससे हृदय रोग की संभावना बढ़ जाती है। यह एक लंबे समय से जारी स्थिति है जो वृद्धों में होने वाली सभी मौतों में से दो-तिहाई के करीब होती है। यह चिंता कई गुना बढ़ जाती है, क्योंकि हृदय रोग के लक्षण हमेशा स्पष्ट नहीं होते हैं और इन्हें नजरअंदाज किए जाने की अत्यधिक संभावना होती है। बुजुर्गों में हृदय संबंधी बीमारियों को रोकने और मैनेज करने के तरीकों में शामिल हैं:

• अस्वास्थ्यकर फ़ैट्स (ट्रांस फ़ैट्स और सैचुरेटेड फ़ैट्स) के सेवन पर नियंत्रण रखना और उसे प्रतिबंधित करना

• शराब का सेवन कम करने (या इसे पूरी तरह से हटाने) और धूम्रपान छोड़ने के लिए प्रेरित करना

• हर दिन कम से कम 20-30 मिनट व्यायाम करना

• सोडियम की खपत कम करने के लिए दैनिक नमक का सेवन सीमित करना

2. मधुमेह:

यह मुख्य रूप से जीवनशैली से जुड़ी स्थिति है, जिसके परिणामस्वरूप आपके शरीर द्वारा शुगर को संसाधित करने में असमर्थता होती है। हाई ब्लड प्रेशर का स्वास्थ्य पर गंभीर दीर्घकालिक प्रभाव हो सकता है और इससे किडनी की बीमारी, हृदय रोग आदि भी हो सकते हैं। मधुमेह होने का खतरा एक उम्र के बाद बढ़ जाता है। वास्तव में, 65 वर्ष या उससे अधिक उम्र के वयस्कों में डायबिटीज होने का अधिक जोखिम होता है।

बुजुर्गों में डायबिटीज को रोकने और मैनेज करने के तरीकों में शामिल हैं:

• गतिहीन जीवन शैली से बचना और डेली रूटीन में सक्रिय रहना

• आहार में कार्बोहाइड्रेट और अनहेल्थी फैट को कम करना

• समय-समय पर ब्लड शुगर लेवल की जांच करना

• अपने चिकित्सक की सलाह के अनुसार दवाएं लेना (और किसी भी खुराक को नहीं छोड़ना)।

3. डिहाइड्रेशन:

इसका मतलब है कि आपके शरीर में पर्याप्त मात्रा में पानी की कमी है। शरीर में पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थों की कमी आपके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती है, खासकर वृद्धावस्था में, क्योंकि यह अन्य गंभीर समस्याओं जैसे मूत्र पथ के संक्रमण (Infection), इलेक्ट्रोलाइट इंबैलेंस आदि से जुड़ा हो सकता है।

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन को रोकने और मैनेज करने के तरीके:

• पक्का करें कि आप हर दिन कम से कम 3 लीटर पानी पी रहे हों । जिन लोगों का हार्ट फ़ेल हो चुका है उन्हें पानी के अधिक सेवन से सावधान रहने की जरूरत है।

• शराब और कैफीनयुक्त पेय पदार्थों का सेवन सीमित करना

• फलों, औषधीयुक्त चाय आदि का अधिक सेवन करना।

4. लंबे समय से जारी कब्ज :

बुजुर्गों में ठीक से शौच न कर पाना और भरा हुआ महसूस करना काफी आम समस्या है। इसका कोई तत्काल गंभीर प्रभाव नहीं हो सकता है, लेकिन जब यह बार-बार और गंभीर हो जाता है, तो यह सूजन, अपच, मतली और पेट दर्द जैसी परेशान करने वाली समस्याओं को जन्म देता है। कब्ज का प्रमुख कारण, शारीरिक गतिविधि और फाइबर की कमी हो सकती है।

बजुर्गों में कब्ज को रोकने और मैनेज करने के उपाय:

• अधिक मात्रा में फाइवर का सेवन करने के लिए आहार में अधिक फल और हरी पत्तेदार सब्जियां शामिल करें

• हाइड्रेटेड रहने के लिए नियमित पानी का सेवन करें

• मलत्याग को स्वस्थ बनाए रखने के लिए नियमित व्यायाम करें

• अगर जीवनशैली में बदलाव से मदद न मिले तो विशेषज्ञ की मदद लें

5. मानसिक स्वास्थ्य से संबंधित स्थितियां :

शारीरिक स्वास्थ्य की तरह ही मानसिक स्वास्थ्य भी उम्र के साथ बिगड़ने लगता है। इसी वजह से 60 और उससे अधिक उम्र के लगभग 15% लोग कम से कम एक मानसिक स्वास्थ्य स्थिति से प्रभावित हैं। बुजुर्ग लोगों में अल्जाइमर रोग, अवसाद (डिप्रेशन) और बेचैनी (एंग्ज़ाइटी) विकसित होने की संभावना है।

इनमें से अधिकांश मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं से निपटने के लिए एक अनुकूलित दृष्टिकोण की आवश्यकता होती है, हालांकि, निम्नलिखित कदम सामान्य तरीके से मदद कर सकते हैं:

• पड़ोसियों, परिवार और मित्रों के साथ जुड़े रहना। यदि आप अपने प्रियजनों के आस-पास नहीं हो सकते हैं, तो वर्चुअल कनेक्ट अत्यंत महत्वपूर्ण है

• एक पालतू जानवर को अपनाना

• बागवानी, बुनाई, मिट्टी के बर्तन बनाने आदि जैसे नए शौक को अपनाना

• अहसासों और भावनाओं का ध्यान रखने के लिए डायरी लिखना

6. हड्डी एवं जोड़ों से संबंधित विकार :

बुजुर्गों में ऑस्टियोआर्थराइटिस, रूमेटाइड आर्थराइटिस और मांसपेशियों में दर्द जैसी स्थितियां आम हैं। वास्तव में, आर्थराइटिस 65 और उससे अधिक उम्र के सभी लोगों में से लगभग आधे को प्रभावित करता है। हड्डियों और जोड़ों से संबंधित विकारों का जीवन की गुणवत्ता पर भारी प्रभाव पड़ सकता है क्योंकि वे दैनिक गतिविधियों में आपकी भागीदारी को प्रभावित करते हैं।

बुजुर्गों में हड्डी, मांसपेशियों और जोड़ों से संबंधित स्थितियों से जुड़े लक्षणों के प्रबंधन के तरीकों में शामिल हैं:

• अपनी गतिविधियों की सीमा के भीतर शारीरिक गतिविधियों में भाग लेना

• पर्याप्त मात्रा में कैल्सियम और विटामिन डी से भरपूर खाद्य पदार्थ लेने से इन पोषक तत्वों की कभी कमी नहीं होगी

• पर्याप्त सूर्य की रोशनी पाना सुनिश्चित करना

• दैनिक आहार में विभिन्न प्रकार के जलनरोधी (एंटी-इंफ़्लेमेटरी) खाद्य पदार्थ जैसे मेवे, बीज, फ़ैट्सयुक्त मछलियों जैसी चीजें आदि शामिल करना

• अपने डॉक्टर द्वारा सलाह दिए जाने पर आर्थराइटिस और इस तरह की दूसरी बीमारियों के लिए जांच करवाना

• अचानक बाथरूम में गिरने से बचने के लिए किसी सहारे की व्यवस्था करना

बुजुर्गों में रोग पैदा होने से रोकने या उन्हें मैनेज करने के लिए उपरोक्त उपायों के साथ-साथ हर संभव तरीके से अपने प्यार और देखभाल को सुनिश्चित करें! यह अपरिहार्य है।

Talk to our health advisor

Book Now

LEAVE A REPLY

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Popular Tests

Choose from our frequently booked blood tests

TruHealth Packages

View More

Choose from our wide range of TruHealth Package and Health Checkups

View More

Do you have any queries?